Backlinks Kya Hai वेबसाइट के लिए Backlinks का क्या है महत्त्व

क्या आप जानना चाहते हैं कि Backlinks Kya Hai क्योंकि आज के समय में लगभग सभी नए ब्लॉगर्स बैकलिंक्स एवं SEO के बारे में जानकारी एवं इसके महत्व के बारे में जानने की कोशिश करते हैं।

Backlinks Kya Hai

अगर हम बैकलिंक्स backlinks meaning को बिल्कुल सरल भाषा में जानने की कोशिश करें तो उदाहरण के लिए आप अपने आर्टिकल में किसी दूसरे website या उनके post के लिंक डाल दिया तो उस वेबसाइट को आपके साइट से एक बैकलिंक मिल गया।

अगर आपको किसी high authority site से backlink चाहिए तो या तो आप उस साइट पर उनके पोस्ट में कमेंट करेंगे और उसी कमेंट में वेबसाइट वाले सेक्शन में अपना पोस्ट या वेबसाइट का लिंक डालेंगे और अगर वो कमेंट अप्रूव हो जाता है तो फिर आपको एक बैकलिंक मिल गया।

ऐसे करके बैकलिंक लेने के बहुत सारा तरीका है आप किसी साइट पर अपना प्रोफाइल बनाकर उस प्रोफाइल में अपने वेबसाइट के लिंक डालकर बैकलिंक ले सकते हैं या फिर आप किसी हाई अथॉरिटी साइट पर एक गेस्ट पोस्ट लिख कर देंगे और उसी पोस्ट में कहीं एक जगह पर आपके साइट का लिंक रहेगा।

जब हमारा साइट का लिंक किसी दूसरे साइट पर होता है तो उस लिंक के जरिए जूस पास होता है यानी गूगल के crawler जब उस साइट को crawl करता है तो उसी लिंक के जरिए आपके साइट पर आता है और ऐसे में आपकी साइट की अथॉरिटी बढ़ती है गूगल के नजर में।

जब आपके साइट का लिंक हाई अथॉरिटी साइट पर होते हैं तो इसे हम ये समझ सकते हैं कि आपके साइट की चर्चा बड़े-बड़े साइट पर हो रही है और इसे एक तरह से हम ये भी समझ सकते हैं कि वह बड़े-बड़े साइट हमें सपोर्ट कर रहे हैं।

और गूगल जिस तरीके से उन हाई अथॉरिटी साइट के ऊपर विश्वास करता है उनकी अथॉरिटी गूगल के नजर में उंची होती है ठीक वैसे ही आपके साइट पर भी गूगल विश्वास करने लगता है और आपके साइट की भी अथॉरिटी गूगल के नजर में ऊंची होती है उस बैंकलिंक के जरिए।

ऊपर हमने Backlinks के जितने भी फायदे बताए हैं वो सभी फायदे सिर्फ Do Follow Backlinks से मिलता है No Follow Backlinks से नहीं नो फॉलो बैकलिंक से भी फायदा होता है लेकिन सिर्फ ट्रैफिक का फायदा होता है।

अब इसका मतलब ये नहीं कि हम सिर्फ Do Follow Backlinks ही बनाते जाएं हमें कुछ परसेंट No Follow Backlinks भी बनाने चाहिए इससे हमें ट्रैफिक तो मिलता ही है साथ ही गूगल के नजर में हमारा साइट नेचुरल बनता है।

अब यहाँ तक हमने ये जान लिया की backlinks kya hai अब आप ये सोच रहे होंगे कि आखिर ये Do Follow और No Follow Backlinks होते क्या है ये दो तरह से कैसे होते हैं तो चलिए हम इसके बारे में भी जान लेते हैं।

Do Follow Backlink क्या है

do follow backlinks वो होते हैं जिससे लिंक जूस पास होता है जिसे गूगल के crawler क्रौल करता है और हम किसी साइट को बैकलिंक देते समय ही ये तय करते हैं कि इसे डुफॉलो देना है या इसमें नो फॉलो का टैग लगाना है।

जब आप अपने किसी पोस्ट में कोई आउट बाउंड लिंक देते हैं तो उसी समय आप उसे डू फॉलो या नो फाॅलों में कन्वर्ट कर सकते हैं।

ब्लॉगर ब्लॉग में पोस्ट में आउट बाउंड लिंक देते समय उस लिंक को डू फॉलो या नो फॉलो में चुनने का ऑप्शन शुरू से ही रहा है लेकिन अब वर्डप्रेस में भी ये ऑप्शन ओपन रूप से दे दिया है।

जब आप अपने किसी पोस्ट में कोई आउट बाउंड लिंक देते हैं तो उसी समय ये चुन सकते हैं की वो लिंक डु फॉलो में रहेगा या नो खोलो में ये आपके ऊपर निर्भर करता है।

ये भी पढ़ें
Blog के लिये Keyword Research Kaise Kare
Blogger Blog Me SEO Kaise Kare हिंदी में सीखें

No Follow Backlink Kya Hai

जैसे कि हमने ऊपर समझ लिया कि किसी भी लिंक को डू फॉलो या नो फॉलो में कैसे कन्वर्ट करेंगे नो फॉलो बैक लिंक का भी अपना महत्व होता है।

अगर आप लगातार अपने साइट के लिए डु फॉलो बैक लिंक ही बनाते जाएंगे तो इसे गूगल spam मानता है अगर आपने सौ में सत्तर बैंकलिंक डु फाॅलों में बनाया तो तीस नो फाॅलों में भी होना अति आवश्यक होता है।

नो फॉलो बैक लिंक से हमारे साइट की अथॉरिटी तो नहीं बढ़ती है लेकिन इससे हमें ट्रैफिक मिलता है और गूगल के नजर में हमारा साइट नेचुरल बनता है।

वैसे तो डिफ़ॉल्ट रूप से लगभग सभी कमेंट बैकलिंक नो फॉलो ही होते हैं लेकिन कुछ वेबसाइट पर कॉमेंट बैंक लिंक भी डु फॉलो में देखा गया है क्योंकि वो अपने कोड में कुछ चेंजेज किए होते हैं जिससे आप उनके साइट पर कमेंट भी करेंगे तो वो डू फॉलो में ही होता है।

ऑफीशियली रूप से गूगल ने कहीं भी बैकलिंक के बारे में या इसके महत्व के बारे में नहीं लिखा है लेकिन ब्लॉगिंग के क्षेत्र में सालों से काम कर रहे स्पेशलिस्ट बैकलिंक के अच्छा महत्व के बारे में बताते हैं और हमने भी अपना एक्सपीरियंस में पाया है कि बैकलिंक्स के जरिए हमारे साइट की अथॉरिटी गूगल के नजर में बढ़ती है एवं इसी के वजह से हमारे पेज टॉप में रैंक करते हैं।

Backlinks के महत्व क्या है

Backlinks के वजह से हमारा साइट बुस्ट होती है गूगल के नजर में हमारे साइट की अथॉरिटी बढ़ती है एवं हमारे पेजेस सर्च इंजन में टॉप में रैंक करने लगते हैं।

high authority site से लिया गया high quality का backlinks के वजह से ही हमारे पेजेस search engine में नीचे से ऊपर के तरफ तेजी से आते हैं।

बड़े-बड़े साइट पर गूगल के crawler नियमित रूप से आते हैं एवं उसे crawl करते हैं तो अगर वहां पर हमारे साइट का लिंक होता है तो उसी लिंक के जरिए हमारा पेज भी crawler के द्वारा crawl कर लिए जाते हैं और इससे हमारे पेज फास्ट इंडेक्स भी हो जाते हैं।

जब हमारे साइट का लिंक किसी बड़े साइट पर होती है तो उस साइट पर हमारे साइट की चर्चा होती है और ऐसे में गूगल के साथ ही यूजर के नजर में भी हमारे साइट की अथॉरिटी बढ़ती है लोग हमारे साइट पर विश्वास करते हैं।

Backlinks के नुकसान क्या है

ऊपर हमने बैकलिंक्स के फायदे तो जान लियें लेकिन इसे गलत तरीके से बनाने पर इसका बड़ा खामियाजा हमारे साइट को उठाना पड़ सकता है।

बैकलिंक्स हमें high authority site पर ही बनाना चाहिए यानी उस साइट का DA, (domain authority) PA, (page authority) Spam Score एवं traffic को चेक करने के बाद ही हमें वहां से बैक लिंक लेना चाहिए।

अगर आप किसी स्पैमिंग साइट से बैक लिंक लेते हैं तो इससे हमें फायदा के जगह नुकसान ही हो सकता है हमारे साइट का Spam Score बढ़ने लगता है।

बैकलिंक बनाने का बहुत सारा जरिया है और हमें इन सब अलग-अलग तरीकों को अपनाना चाहिए जैसे कॉमेंट बैंकलिंक, प्रोफाइल बैंकलिंक, इमेज बैंक लिंक, गेस्ट पोस्टिंग के द्वारा बैंक लिंक इत्यादि, एक ही तरह के बैक लिंक लगातार नहीं बनाने चाहिए।

अब यहां तक तो हमने ये जान लिया कि Backlinks Kya Hai एवं इसके महत्व के बारे में भी समझ लिया लेकिन बैंकलिंक ही सब कुछ नहीं होता इसके अलावा जो मेन काम होता है उसके ऊपर भी हमें ध्यान देना चाहिए और अब हम नीचे उसी के बारे में आपको बताने जा रहे हैं

ये भी पढ़ें
Website SEO कैसे करे Advance SEO Tips in hindi
Blog Post को Google में fast index कैसे करें

Backlinks बनाने से पहले जरूरी बातें

ये बात सही है कि Backlinks के द्वारा हमारे साइट की अथॉरिटी बढ़ती है एवं हमारे पेजेस टॉप में रैंक करने लगते हैं लेकिन इससे भी जरूरी बात ये होती है कि आपके साइट पर कॉन्टेंट क्वालिटी वाला होना चाहिए।

अगर आपके पेज Backlinks के वजह से search engine में टॉप में आ जाता है और उस पर ट्रैफिक भी आने लगती है लेकिन जब आपके द्वारा लिखा गया पोस्ट किसी काम का नहीं है लोगों को पसंद नहीं आ रहा है तो फिर आपके वो पेज वापस धीरे-धीरे नीचे भी जा सकते हैं।

जब आपके पेज पर कोई युजर आता है और उसे वो पूरी तरह से पढता है एक पेज से दूसरे पेज पर जाता है आपके पेज में कमेंट करता है तो गूगल को ये संदेश जाता है कि आपने बहुत ही अच्छा नॉलेजेबल पोस्ट लिखा है और फिर आपका वो पोस्ट टॉप में बना रहता है।

लेकिन इसके विपरीत अगर आपके पेज पर यूजर आते हैं लेकिन ज्यादा समय रुकते नहीं है वापस हो लेते हैं क्योंकि आपने पोस्ट में कुछ खास लिखा नहीं है तो इससे गूगल को ये संदेश जाता है कि आपका पोस्ट किसी काम का नहीं है वो लोगों का समय खराब कर रहा है तो उस पेज पर चाहे कितना भी बैकलिंक हो वो पेज नीचे चला जाता है।

क्योंकि गूगल भी यही चाहता है कि उसके प्लेटफार्म पर नॉलेजेबल कंटेंट हो जिससे लोगों को फायदा मिले, लोग गूगल के ऊपर विश्वास करें तभी आज करोड़ों में लोग गूगल को ही चुनते हैं गूगल से ही जानकारियां हासिल करते हैं।

और इसी वजह से गूगल आज पूरे विश्व में नंबर वन पर है तो आपको बैकलिंक्स के पहले अपने कांटेक्ट पर ध्यान देना चाहिए अगर आपका कांटेन्ट नॉलेजेबल है तो बिना बैकलिंक के भी वो सर्च इंजन में टॉप मे रैंक करेगा।

Backlinks हमारे साइट को बूस्ट जरूर करता है लेकिन अगर हमारे साइट पर डाली गई सामग्री ही किसी काम की नहीं है तो Backlinks भी क्या करेगा अतः आप से यही अनुरोध है कि आप अपने सामग्री के ऊपर सबसे ज्यादा ध्यान दें।

अगर आपको विश्वास है की आपके साइट पर क्वालिटी कंटेंट है आपने जो लिखा है उससे लोगों को फायदा होगा लोग पढ़ेंगे तो high authority site से high quality backlinks बनाने के लिए यहां एक गाइड है। Backlink Kaise Banaye

और अंत में

हमें अपना ब्लॉक पर ऐसा कॉन्टेंट डालना चाहिए जिसका इंटरनेट पर अभाव है और जिसे लोग ढूंढ रहे हैं साथ ही उसे इस तरीके से बनाना चाहिए जिससे लोगों को समझ में आए कि आपने क्या लिखा है आपका लेखन सरल भाषा में होनी चाहिए।

 बैकलिंक्स तो बाद की बात होती है और बैंकलिंक तो हमारे क्वालिटी कॉन्टेंट को ही और निखारने का काम करता है जिस कांटेन्ट में दम ही ना हो उस कॉन्टेंट का साथ बैकलिंक्स तो क्या स्वयं गूगल भी नहीं देता है।

आज के समय में हर क्षेत्र में कंपटीशन इतना ज्यादा है कि हमें सफल होने के लिए जी तोड़ मेहनत करना पड़ता है वैसे ही blogging भी बहुत ही ज्यादा मेहनत वाला काम होता है लेकिन अगर आप ब्लॉगिंग में सफल हो जाते हैं तो ढेर सारा पैसा के साथ ही अपना नाम भी रोशन करते हैं।

तो हमने यहां पर सीखा Backlinks Kya Hai एवं बैकलिंक्स के महत्व को भी अच्छी तरह से जाना और हमें उम्मीद है ये पोस्ट आपके समझ में आ गई होगी।

अगर अभी भी आप इस पोस्ट Backlinks Kya Hai से संबंधित कुछ पूछना चाहते हैं या आपके पास कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर कहें।

1 thought on “Backlinks Kya Hai वेबसाइट के लिए Backlinks का क्या है महत्त्व”

Leave a Comment