Google Analytics VS Google Search Console हिंदी में

Google Analytics VS Google Search Console यानी Ga और GSC ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक की गणना कैसे करते हैं, क्या आप Google Analytics और Search Console इन दोनों टूल में ट्राफिक का गाणना पर गौर किया है क्या आप इन दोनों टूल में अलग-अलग ट्रैफिक देखते हैं।

इस पोस्ट में हम जानेंगे कि Google Analytics VS Google Search Console दोनों में क्या फर्क है और ये दोनों हमारे वेबसाइट के ट्रैफिक को अलग-अलग क्यों दिखाते हैं।

Google Analytics और Google Search Console ये दोनों गूगल के द्वारा बनाया हुआ है एक ऐसा फ्री और पावरफुल टूल है जो हमारे वेबसाइट के एक-एक गतिविधियों को रिकॉर्ड करके हमें दिखाता है।

अगर इस तरीके का टूल किसी थर्ड पार्टी के पास होता तो वो महीने का हजारों रुपए में इसका सब्सक्रिप्शन बेचता लेकिन गूगल इन दोनों टुल को हमारे लिए फ्री में मुहैया कराता है।

यह पोस्ट निम्नलिखित विषयों को कवर करेगी: छुपाएं

Google Analytics VS Google Search Console in Hindi

हम Google Search Console पर अपने वेबसाइट को वेरीफाइड करने का तीन तरीका में से कोई एक अपनाते हैं पहला फाइल अपलोड करके दूसरा अपने थिम के हेड सेक्शन में एक मेटा टैग को ऐड करके और तीसरा डोमन लेवल पर txt रिकॉर्ड जोड़ के।

लेकिन वहीं दूसरी तरफ हम Google Analytics को अपने website के साथ लिंक करने के लिए js code को अपने वेबसाइट में जोड़ते हैं बस इसी वजह से इन दोनों टूल में ट्रैफिक का अंतर होता है।

Google Search Console पे अपने वेबसाइट को फाइल अपलोड, मेटा टैग एवं txt रिकॉर्ड ऐड करके वेरीफाइड किए होते हैं इसलिए हमारे वेबसाइट पर जैसे कोई यूजर आता है और हमारा साइट जैसे लोड होना शुरू होता है वैसे ही तुरंत सर्च कंसोल को हमारे वेबसाइट के बारे में इंफॉर्मेशन मिल जाती है।

लेकिन वहीं दूसरी तरफ हम Google Analytics को अपने साइट से लिंक करने के लिए गूगल एनालिटिक्स से मिला हुआ टैग अपने साइट में डाला था वो जावास्क्रिप्ट कोड होता है।

तो जावास्क्रिप्ट कोड तब काम करना शुरू करता है जब आपका पेज पूरी तरह से लोड हो जाता है और इस कोड को आपके साइट के बारे में इंफॉर्मेशन मिलना शुरू होता है तब जाकर Google Analytics के पास आपके साइट के बारे में इंफॉर्मेशन पहुंच पाता है।

उदाहरण के लिए कोई यूजर अपने ब्राउज़र में एक कीवर्ड सर्च करता है और नीचे आए हुए रिजल्ट में आपके वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करके आपके साइट पर जाता है।

अब जैसे उस यूजर ने आपके वेबसाइट के लिंक पर क्लिक किया था वैसे तुरंत ही Search Console के पास ये इंफॉर्मेशन मिल गया था कि आपके साइट पर एक ऑर्गेनिक ट्राफिक आया हुआ है।

वहीं दूसरी तरफ उस यूजर के ब्राउजर में जावास्क्रिप्ट डिसेबल है तो उस यूजर का इंफॉर्मेशन Google Analytics के पास पहुंच ही नहीं पाएगा, तो फिर इस स्थिति में आपके साइट पर एक ट्रैफिक आया और उसका रिपोर्ट सर्च कंसोल ने दे दिया लेकिन गूगल एनालिटिक्स नहीं दे पाया।

कई बार आपके साइट पर कोई यूजर आता है और पेज पूरी तरह से लोड होने के पहले ही वापस हो लेता है तो ऐसे में Search Console उस Traffic का गिनती कर लेगा लेकिन क्योंकि गूगल एनालिटिक्स जावास्क्रिप्ट कोड के जरिए ट्रैफिक का गिनती करता है तो वो यूजर पेज लोड होने के पहले ही वापस हो लिया था और जावास्क्रिप्ट सक्रिय ही नहीं हो पाया था इसलिए एनालिटिक्स रिपोर्ट में उस यूजर का कोई गिनती देखने को नही मिलेगा।

तो ये है मुख्य कारण जिसके वजह से Google Search Console और Google Analytics आपके साइट के डाटा को अलग-अलग तरीके से मेजरमेंट करते हैं।

ये भी पढ़ें
Blog के लिए JPEG या PNG को WebP Image में कैसे बदले

Top 15 Social Bookmarking/Sharing Sites List in Hindi

Search Console और Analytics Report में Organic Traffic

कुछ ऐसे ट्रैफिक जिसे Google Analytics ऑर्गेनिक मानता है लेकिन Search Console उस ट्रैफिक को Directe Traffic में गिनती करता है।

उदाहरण के लिए कोई युजर्स सर्च इंजन में रैंक कर रहे आपके किसी पेज पर क्लिक करके आपके साइट पर जाता है तो Search Console और Google Analytics दोनों ही इसे Organic Traffic मानेगा लेकिन अगली बार जब वही यूजर आपके साइट को बुकमार्क कर लेता है और बुकमार्क के जरिए आपके साइट पर आता है या फिर आपके किसी पेज के यूआरएल को डायरेक्ट ब्राउज़र में पेस्ट करके आपके साइट पर आता है तो सर्च कंसोल इसे Direct Traffic मानेगा लेकिन गूगल एनालिटिक्स इस ट्रैफिक को ऑर्गेनिक मानता है।

और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि गूगल एनालिटिक्स last non direct clicks मॉडल का इस्तेमाल करता है, यानी अगर कोई यूजर सर्च इंजन से आपके साइट पर आया है तो वो ट्रैफिक ऑर्गेनिक होता है और गूगल एनालिटिक्स भी इसे ऑर्गेनिक ही मानेगा लेकिन जब वही यूजर सेकंड टाइम बुकमार्क के द्वारा या आपके पेज के लिंक को ब्राउज़र में पेस्ट करके भी आपके साइट पर आता है तो भी एनालिटिक रिपोर्ट में इसे ऑर्गेनिक ट्रैफिक ही दिखाया जाएगा।

Google Search Console में Traffic को Clicks कहा जाता है और आपने भी कई बार सर्च कंसोल को ओपन करके पिछला दिन या 7 दिन या लास्ट 28 दिन का डाटा देखते होंगे तो क्लिक्स में ही गिनती दिखाई जाती है, लेकिन Google Analytics में Traffic को Session कहा जाता है।

तो Search Console में दिखाए गए Clicks वो इवेंट है जब कोई यूज़र Search Engine में रैंक कर रहे आपके पेज के ऊपर क्लिक करके आपके साइट पर लैंड करता है, और Session वो इवेंट है जब कोई यूजर आपके एचटीएमएल पेज पर विजिट करता है और एनालिटिक्स के जावास्क्रिप्ट कोड सक्रिय होता है और सेशन टाइमआउट नहीं होता है।

उदाहरण के लिए आपका पीडीएफ सर्च इंजन में रैंक कर रहा है तो उस पर आए हुए ट्रैफिक को Search Console Organic Traffic मानेगा लेकिन गूगल एनालिटिक्स इस Traffic को काउंट भी नहीं कर पाएगा क्योंकि पीडीएफ में एनालिटिक्स कोड को ऐड नहीं कर सकते हैं।

अगर आपके साइट पर कोई ट्रैफिक ऑर्गेनिक रूप से आता है यानी सर्च इंजन से आता है तो इसे सर्च कंसोल ऑर्गेनिक ट्राफिक मानेगा और एनालिटिक्स भी ऑर्गेनिक ट्रैफिक ही मानेगा लेकिन वही यूजर अगले 20 मिनट के लिए लंच या डिनर पर चला जाता है और फिर वापस आकर आपके साइट को फिर से ब्राउज़ करने लगता है तो एनालिटिक्स में इसे दूसरा सेशन माना जाएगा, जबकि सर्च कंसोल इसे एक ही ट्रैफिक मानेगा।

तो ऐसे में आप पाएंगे की Search Console के तुलना में Google Analytics में ज्यादा Traffic दिखाए जाते हैं क्योंकि एक ही यूजर को एनालिटिक्स कई सेशन में गिनती करता है लेकिन सर्च कंसोल एक को एक ही में गिनती करता है।

Google Analytics में आपको Traffic टाइप के मामले में बेहतर रिजल्ट मिलता है क्योंकि Search Console में ट्राफिक का इंफॉर्मेशन बटी हुई होती है जैसे http, https, www, non www इसके अलावा वेब से आया हुआ ट्रैफिक, इमेज से आया हुआ ट्रैफिक, वीडियो से आया हुआ ट्रैफिक इन सब को हमें कंबाइंड करके देखना होता है लेकिन एनालिटिक्स में ये सभी इंफॉर्मेशन को कंबाइंड करके ही दिखाया जाता है।

ये भी पढ़ें
Website SEO Score Free मे कैसे चेक करे

Link Building for SEO

और अंत में

तो कुल मिलाकर कहने का मतलब ये है कि Google Analytics VS Google Search Console ये दोनों टूल आपके साइट पर आए हुए ट्राफिक को अलग-अलग नजरिए से देखते हैं एवं अलग तरह से काउंट भी करते हैं।

Search Console का Clicks एवं Analytics का Session ये दोनों अलग-अलग तरह से रिपोर्ट होते हैं अब आपको अपना इस्तेमाल के आधार पर देखना होता है कि आपको क्लिक्स पर ध्यान देना है या स्टेशन पर।

तो हमने यहां पर Google Analytics VS Google Search Console का तुलना किया एवं Ga और GSC ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक की गणना कैसे करते हैं ये भी जाना, क्या अभी भी आपके पास इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करके हमें जरूर बताएं।

1 thought on “Google Analytics VS Google Search Console हिंदी में”

Leave a Comment