Page Speed Insights क्या है Website की Speed कैसे देखें

Page Speed Insights क्या है और Website की Speed कैसे देखें, हम अपने वेबसाइट के लोडिंग स्पीड को नापने के लिए अलग-अलग तरह के टूल का इस्तेमाल करते हैं इस पोस्ट में हम Page Speed Insights के बारे में वो सभी जानकारी लेंगे जिसे आप इंटरनेट या यूट्यूब पर ढूंढते हैं।

Page Speed Insights क्या है?

Page Speed Insights गूगल के द्वारा बनाया हुआ एक ऐसा टूल है जिसके मदद से हम अपने वेबसाइट का Loading Speed और परफॉर्मेंस की स्थिति को चेक कर पाते हैं एवं उन सभी गड़बड़ियों को सुधारने के लिए इस टूल पर सजेशन भी पाते हैं।

जब आप अपने वेबसाइट के यूआरएल को Page Speed Insights Tool में डाल के एनालिसिस करते हैं तो आपके वेबसाइट का लोडिंग स्पीड कितना है और आपके वेबसाइट का परफॉर्मेंस क्या है क्या कमियां है एवं उन कमियों को कैसे ठीक करें ये सभी जानकारी ये टूल आपको मुहैया करा देता है।

हमें हमारा Blog या Website के Page Speed का स्कोर 0 से 100 के बीच में दिखाया जाता है जिसमें 100 का मतलब है आपका वेबसाइट फास्ट लोड हो रही है एवं जीरो का मतलब स्लो, लेकिन ऐसा नहीं है कि इस टुल पर आपके वेबसाइट का स्कोर 100 होने पर आपके सभी पेजेस सर्च इंजन में टॉप में रैंक करने लगेंगे ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

सर्च इंजन में हमारे पेज को टॉप में रैंक करने के लिए कई सारे फैक्टर होते हैं सिर्फ स्पीड ही मायने नहीं रखता है लेकिन अन्य फैक्टर को सुधारने के साथ हमें अपने Blog या Website का लोडिंग स्पीड को भी सुधारना जरूरी ही होता है।

Google Page Speed Insights हमें हमारे Blog या Website के बारे में जानकारी देता है कि आपको अपने ब्लॉग या वेबसाइट में किन किन कमियों को सुधार के इसका लोडिंग स्पीड को एवं परफॉर्मेंस को ठीक करना है।

चाहे आपका ब्लॉग Blogger पर हो या WordPress पर हमें अपना ब्लॉग का लोडिंग स्पीड को एक सही दिशा में रखना चाहिए और हमारा कोशिश यही होना चाहिए कि हमारे blog का लोडिंग स्पीड फास्ट हो वो जल्दी से जल्दी लोड हो पाए।

लेकिन कई बार इस टूल में दिखाए गए रिजल्ट को हम समझ नहीं पाते हैं और हम ये तय नहीं कर पाते हैं कि इसमें दिखाए गए रिजल्ट को हम अपने वेबसाइट पर कैसे लागू करेंगे यहां पर दिखाए गए रिजल्ट का मतलब क्या है, तो इस पोस्ट में हम Page Speed Insights पर दिखाए गए रिजल्ट का मतलब जानेंगे एवं उसे ठीक करने का तरीका भी सीखेंगे।

Page Speed Insights पर दिखाए गए रिजल्ट का मतलब

अब हम Page Speed Insights Tool में अपने वेबसाइट के यूआरएल को एनालिसिस करके यहां पर दिखाए गए सभी रिजल्ट का मतलब जानेंगे इसके लिए आप सबसे पहले Page Speed Insights इस टुल को अपने ब्राउज़र में ओपन करें, ओपन करते ही आपके मोबाइल या कंप्यूटर में इसका इंटरफेस नीचे दिखाए गए चित्र के अनुसार दिखेगा। (नीचे चित्र देखें)

Page Speed Insights Tool
Page Speed Insights Tool

अब यहां पर enter web page URL में अपने Blog या Website के होम पेज का यूआरएल डालें और दाहिने साइड में Analyze It के बटन पर क्लिक करें, फिर थोड़ी देर इंतजार करें।

थोड़ी देर बाद ये टूल आपके Blog का लोडिंग स्पीड एवं परफॉर्मेंस का रिजल्ट मोबाइल डिवाइस के लिए नीचे दिखा देगा, अगर आप डेक्सटॉप के लिए देखना चाहते हैं तो ऊपर बायें साइड में डेक्सटॉप के आइकन पर क्लिक करें। (नीचे चित्र देखें)

page speed insights Analyze It
page speed insights Analyze It

मेरे केस में मेरे वेबसाइट का लोडिंग स्पीड डेक्सटॉप के लिए 96 दिखा रहा है यानी ये बिल्कुल परफेक्ट है लेकिन मोबाइल के लिए 70 दिखा रहा है इसके मतलब कि मुझे अपने वेबसाइट का लोडिंग स्पीड को मोबाइल के लिए और भी तेज करना होगा।

अब आप थोड़ा नीचे की तरफ स्क्रोल करेंगे तो आपको Lab data section में मेजर टेस्ट का रिजल्ट दिखेगा इस सेक्शन में आपके सामने 6 तरह का रिजल्ट मिलेगा (नीचे चित्र देखें)

Lab data section
Lab data section

First Contentful Paint या FCP

Lab Data Section में पहला रिजल्ट first contentful paint या FCP का मतलब आपके Blog ब्राउज़र में जब लोड होता है तो सबसे पहले जो भी सामग्री दिखती है चाहे वो इमेज हो या टेक्स इसी को first contentful paint के टाइम से मापा जाता ह, ये आपके वेबसाइट का पूरी तरह से लोड होने का टाइम नहीं होता है उदाहरण के लिए मेरे वेबसाइट का FCP 0.5 cm है जो कि एकदम परफेक्ट है (ऊपर दिखाए गए चित्र देखें)

Time to Interactive

Page Speed Insights में Time to Interactive वो टाइम होता है जब कोई आपके वेबसाइट को ओपन करता है और आपके website में मेन पार्ट जैसे की इमेज टेक्स इत्यादि कितने देर में लोड हो रहा है उदाहरण के लिए मेरे Blog का ऊपर दिखाए गए चित्र में Time to Interactive 0.5 है और ये बिल्कुल परफेक्ट है।

Speed Index

Speed Index टाइम का मतलब हुआ कि आपका ब्लॉग कितने देर में लोड हो रहा है यानी कि जब कोई आपके ब्लॉग को ओपन कर रहा है तो आपके ब्लॉग पर सभी सामग्री को लोड होने का टाइम, उदाहरण के लिए ऊपर दिखाए गए चित्र में मेरे वेबसाइट का Speed Index का टाइम 1.7 cm है।

First CPU Idle

First CPU Idle वो टाइम होता है जब आपका साइट पूरी तरह से लोड तो नहीं होता है लेकिन कुछ एलिमेंट्स अभी लोड होने में बाकी रहते हैं और इसी समय को First CPU Idle कहा जाता है।

Time To interactive

Time To interactive वो टाइम होता है जब आपका साइट पूरी तरह से लोड हो गया होता है और यूजर आपके उस पेज में किसी भी एलिमेंट या बटन को यूज कर सकता है।

Max Potential First Input Delay

First Input Delay या FID वो टाइम होता है जब यूजर आपके साइट पर किसी बटन लिंक या इमेज पर क्लिक करता है तो क्लिक करते ही वो बटन लिंक या इमेज को ओपन होने में कितना समय लग रहा है। FID या FCP को लोड होने में कम से कम समय लगना आपके साइट का स्पीड और परफॉर्मेंस को बिल्कुल परफेक्ट दिशा में होना बताया गया है।

अब अगर आपका Blog या Website को Google Page Insights में एनालिसिस करने पर Lab Data में छह के छह रिजल्ट अच्छा नहीं आ रहे हैं तो फिर इनको सुधारने के लिए Lab Data के नीचे Opportunities में वो सभी उपाय बताए गए हैं जिसको करके आप इन सभी रिजल्ट को ठीक कर सकते हैं।

Opportunities

Reduce the server’s initial time to respond

Opportunities में Reduce the server’s initial time to respond यानी सरवर को जवाब देने में लगने वाला शुरुआती समय कितना सेकंड लग रहा है, अगर इसमें ज्यादा समय लग रहा है तो गूगल इसे कम करने का उपाय इसी सेक्शन में बताया है और इसके लिए कुछ wordpress plugin सजेस्ट किए हैं आप इन प्लगइन के मदद से इस समस्या का समाधान कर सकते हैं।

Correctly Sized Image

दूसरा नंबर में Correctly Sized Image यानी आपके साइट की लोडिंग स्पीड ज्यादा होने का कारण बड़े साइज वाले इमेज बताया गया है और यहां पर यह सुझाव दिया गया है कि आप अपने डाटा को बचाने के लिए छोटा से छोटा साइज का इमेज इस्तेमाल करें।

यहां पर बताया गया है कि इमेज को कंप्रेस करें एवं यहां पर कुछ WordPress Plugin सजेस्ट किए गए हैं जिसका इस्तेमाल करके आप अपने साइट पर अपलोड किए गए इमेज को कम साइज में तब्दील कर सकते हैं।

मेरा सुझाव ये है कि जब भी आप अपने पोस्ट में कोई इमेज अपलोड करें तो उसके फाइल साइज को 24 केवी के अंदर ही रखें क्योंकि ज्यादा प्लगइन का इस्तेमाल करने से भी हमारे साइट या Blog का लोडिंग स्पीड पर असर पड़ता है।

ध्यान देने वाली बात

जब कोई विजिटर हमारे साइट पर विजिट करता है तो ब्राउज़र हमारे साइट का बॉटम पार्ट को सबसे पहले लोड करता है और फिर धीरे-धीरे टॉप पार्ट को लोड करता है लेकिन विजिटर सबसे पहले टॉप पार्ट को देखता है।

यानी कुल मिलाकर जब हमारा साइट ओपन होता है तो वो चाहे कोई सा भी ब्राउज़र हो वो आपके साइट के निचले हिस्से को सबसे पहले लोड करता है लेकिन यूजर को सबसे पहले ऊपर का हिस्सा चाहिए होता है।

इसके लिए आप अपने डेवलपर को ये बोल सकते हैं कि वो ऊपरी हिस्से को एक अलग फोल्डर में सेव करें और निचले हिस्से को एक अलग फोल्डर में सेव करें ताकि जब आपके साइट को कोई ओपन करें तो ऊपर का हिस्सा सबसे पहले विजिटर को दिख जाए फिर जब तक वो ऊपर के हिस्से को पढेगा तब तक निचला हिस्सा अपने आप लोड हो जाया करेगा।

कोई भी आपके साइट पर आता है तो वो ऊपर से ही पढ़ना स्टार्ट करता है तुरंत ही नीचे नहीं भागता है और अगर आप अपने साइट का ऊपरी हिस्सा को अलग फोल्डर में सेव करके लोड कर रहे हैं तो फिर यूजर के सामने लोडिंग स्पीड वाला प्रॉब्लम नहीं आएगा और आपके साइट का लोडिंग स्पीड एवं परफॉर्मेंस अच्छा बना रहेगा।

ये भी पढ़ें
Website के लिये Business Email ID कैसे बनायें

Google Analytics 0 Bounce Rate क्या है कैसे ठीक करें

और अंत में

तो हमने यहां पर सीखा Page Speed Insights क्या है Website की Speed कैसे देखें हमें Page Speed Insights के स्कोर के पीछे नहीं भागना चाहिए अगर आप अपने साइट का स्कोर बनाने के लिए अपने साइट से सभी जरूरी एलिमेंट को रिमूव कर देंगे तो स्कोर तो बढ़ जाएगा लेकिन फिर यूजर को क्या मिलेगा।

जैसे जैसे हमारा Blog या website पुराना होता है वैसे वैसे उस साइट पर इमेज टैक्स और अन्य एलिमेंट्स बढ़ते जाते हैं जिसके वजह से हमारा साइट का लोडिंग स्पीड धीमा होता जाता है। हमें अपने साइट का Page Speed Insights में स्कोर को पढ़ाने के लिए अपने वेबसाइट को अच्छी तरीके से ऑप्टिमाइज करना होता है ना कि 100 स्कोर करने के लिए एलिमेंट को रिमूव करना।

हमें उम्मीद है इस पोस्ट Page Speed Insights क्या है से आपके सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे अगर अभी भी आपके पास कोई सवाल है या आप कोई सुझाव देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

Leave a Comment