Website SEO कैसे करे Advance SEO Tips in hindi

लगभग सभी नए Blogger के पास एक बड़ा प्रश्न होता है कि Website SEO Kaise Kare क्योंकि इसके बिना हमारे pages को search engine में rank करना मुश्किल होता है और फिर इस स्थिति में हमारे साइट पर organic traffic नहीं आता है।

Website SEO Kaise Kare

SEO का full form यानी पूरा नाम search engine optimisation होता है और गूगल इसी के मदद से लोगों के द्वारा सर्च किए जा रहे किवर्ड के सामने आपके पोस्ट को रखता है।

Website SEO Kya Hai

हमे website seo kaise kare के पहले ये जानना है कि SEO होता क्या है, जब आप अपने ब्राउज़र में किसी भी विषय को टाइप करके सर्च करते हैं तो आपके सामने बहुत सारे रिजल्ट आते हैं, उनमें सबसे ऊपर जो वेबसाइट होता है वो अपने पोस्ट का SEO बहुत ही बेहतर तरीके से किया हुआ होता है तभी उसका पोस्ट सबसे ऊपर दिखता है।

जब आप कोई पोस्ट लिखते हैं तो आपका पोस्ट किस विषय पर है, आपने अपने पोस्ट में क्या बताया है ये सब बातें जानने के लिए हम अपने पोस्ट का SEO करते हैं यानी उस पोस्ट में अलग-अलग जगह पर उस पोस्ट से संबंधित कीवर्ड को सजाते हैं ताकि गूगल को आपके पोस्ट के बारे में पता चल सके।

और जब कोई व्यक्ति उस कीवर्ड या विषय को ब्राउज़र में लिखकर सर्च करते है तो गूगल तुरंत समझ जाता है कि वो वही चीज ढूंढ रहा है जो आप अपने पोस्ट में बताएं हैं तभी आपका पोस्ट सर्च इंजन में सबसे ऊपर या दूसरे तीसरे नंबर पर दिखाई देता है।

SEO कितने प्रकार का होता है

SEO मुख्यतः दो प्रकार के होता हैं on page seo और of page seo जब आप अपने पोस्ट लिखते समय पोस्ट से संबंधित कीवर्ड को title, tag, description एवं पोस्ट के अंदर सही तरीके से मेंशन करते हैं और पुराने पोस्ट के साथ में लिंकिंग करते हैं तो इसे on page seo कहा जाता है।

पोस्ट को पब्लिश करने के बाद जब आप उसे अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करते हैं उसके लिए Backlinks बनाते हैं guest post लिखते हैं तो इसे of page seo कहां जाता है।

अब हम website seo kaise kare के इस सीरीज में ये जानने की कोशिश करेंगे कि ब्लॉग या वेबसाइट के लिए एस इ ओ क्यों जरूरी होता है।

Website के लिए SEO क्यों जरूरी है

जिस तरह से आप सब्जी कितना भी अच्छा बना लेकिन उसमें नमक ना डालो तो वो पूरा बेकार हो जाता है ठीक वैसे ही आप आर्टिकल कितना भी अच्छा लिख लो लेकिन बिना SEO का वो किसी काम का नहीं होता है।

जब हम कोई आर्टिकल लिखते हैं तो हम उस आर्टिकल में उस विषय से संबंधित कीवर्ड डालते हैं उदाहरण के लिए हमने एक आर्टिकल लिखा SEO Kya Hai तो इस कीवर्ड को टाइटल से लेकर टैग, डिस्क्रिप्शन एवं आर्टिकल में जगह-जगह पर मेंशन करेंगे ताकि जब कोई इस कीवर्ड को ब्राउजर में सर्च करें तो गूगल आपके उस आर्टिकल को उनके सामने दिखाएं।

on page seo के द्वारा गूगल को आपके पेजेस को ढूंढने में आसानी होती है एवं of page seo के द्वारा आपके उस पेज की अथॉरिटी गूगल को पता चलता है क्योंकि आपके जैसे किवर्ड तो लाखों पोस्ट में होते हैं लेकिन ऑफ पेज एसियो ही आपके पेज को उन लाखों पेजेस में ऊपर लाता है।

of page seo के साथ ही on page seo हमारे pages को सर्च इंजन में टॉप में लाने में मदद करते हैं जब हम high authority site से high quality backlinks बनाते हैं तो गूगल को ये समझ में आता है कि आपके उस पेज को बड़े-बड़े वेबसाइट ने सपोर्ट कर रखा है इसलिए भी उन लाखों आर्टिकल में आपका आर्टिकल को गूगल ऊपर लाता है।

seo हमारे वेबसाइट के लिए जरूरी होता है लेकिन बहुत ज्यादा भी नहीं इसे हमें एक हिसाब से करना चाहिए बहुत ज्यादा seo भी हमारे पेजेस को रैंकिंग में नीचे कर सकता है और इसे गूगल स्पैमिंग मानता है।

हमें ये तय करना होता है कि हमारे आर्टिकल में कितने keywords डालने हैं और इसके लिए किस तरीके के वेबसाइट से Backlinks लेना है जो कि spaming भी ना हो और हमारे पेज एस को सर्च इंजन में ऊपर लाने में मदद भी करें।

ये भी पढ़ें
Guest Post Kaise Kare जानें सही तरीका
Blogging Kaise Shuru Karen – जानिए सबकुछ हिंदी में

Website SEO Kaise Kare

अब हम website seo kaise kare मे हम सबसे पहले on page seo की बात करेंगे क्योंकि ऑन पेज से ही हमारे पोस्ट या वेबसाइट का SEO चालू होता है।

जब हम अपना वेबसाइट बना लेते हैं या फिर अपनी वेबसाइट पर on page seo के साथ आर्टिकल लिख लेते हैं उसके बाद उस वेबसाइट या उस आर्टिकल का of page seo करते हैं।

ON Page SEO Kaise Kare (what is on page seo) 

जब हम कोई आर्टिकल लिखना चाहते हैं तो सबसे पहले उस आर्टिकल के लिए उस आर्टिकल से संबंधित keywords research करते हैं।

उदाहरण के लिए हमें एक आर्टिकल लिखना है “on page seo kya hai” तो हम इस कीवर्ड से संबंधित और भी कुछ कीवर्ड रिसर्च करेंगे जैसे on page seo कैसे करें, एवं इससे फायदा क्या होता है इत्यादि।

अब हमें यह देखना है कि इसकी वर्ड को ज्यादातर लोग किस तरीके से ब्राउज़र में लिखकर सर्च कर रहे हैं क्योंकि कुछ लोग इस तरीके से भी लिखकर सर्च कर सकते हैं कि on page seo karne ka tarika या फिर इसको कई और तरीके से लोग लिख के सर्च करते हैं।

कुल मिलाकर हमें ये देखना होता है कि इस विषय को ढूंढने के लिए लोग कौन सा कीवर्ड का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं।

क्योंकि अगर आप अपने आर्टिकल को “on page seo kaise kare” कीवर्ड पर लिखा है और अगर कोई इसी विषय को “on page seo karne ka tarika” इस किवर्ड को ब्राउज़र में डालकर ढूंढेगा तो फिर आपका आर्टिकल वहां नहीं दिखेगा।

अब यहां तक आप कीवर्ड रिसर्च के बारे में जान चुके हैं अब इस कीवर्ड को रिसर्च करने के लिए बहुत सारे टूल आते हैं आप उन टूल के जरिए अपने किवर्ड को रिसर्च कर सकते हैं। और अब हम website seo kaise kare के इस सीरीज में कीवर्ड के बारे में कुछ जरूरी जानकारी लेंगे।

Keywords Ko Post Me Kaise Dale

हमने keyword तो research कर लिया लेकिन अब इस कीवर्ड को सही तरीके से अपने आर्टिकल में डालना है जैसे title, tag, description और parmalink में।

हमें कोशिश यही करना चाहिए कि हमारा main keyword टाइटल टैग डिस्क्रिप्शन और परमालिंक इन सभी जगहों पर आना चाहिए साथ ही आर्टिकल के अंदर भी वर्ड के अनुसार मेंशन होना चाहिए।

अगर आपका ब्लॉग wordpress पर है तो यहां पर कितना वर्ड के आर्टिकल में कितना कीवर्ड होना चाहिए ये seo tool जैसे yoast seo या rank math seo आपको सजेस्ट कर देगा।

लेकिन अगर आपका ब्लॉग ब्लॉगर पर है तो यहां पर कोई टुल नहीं होता है आपको खुद से ही अपने आर्टिकल में वर्ड के अनुसार keywords को मेंशन करना है।

सामान्यता एक एक हजार वर्ड के आर्टिकल में हमें पांच कीवर्ड का इस्तेमाल करना चाहिए यानी कि 0.5 प्रतिशत कीवर्ड हमारे आर्टिकल में होना चाहिए।

अगर आप अपने आर्टिकल में बहुत ज्यादा कीवर्ड का इस्तेमाल करेंगे तो इसे गूगल आपके उस आर्टिकल को keyword stuffing में डाल देगा और फिर आपका वो आर्टिकल चाहे कितना भी अच्छा से लिखा गया हो कभी रैंक नहीं करेगा।

on page seo में इंटरलिंकिंग भी बहुत बड़ा मायने रखता है यानी आप अपने नया आर्टिकल को पुराने आर्टिकल से लिंक करना ना भूले।

जब आप अपने नए आर्टिकल में उन पुराने आर्टिकल का लिंक देते हैं जो पहले से रैंक कर रहा है तो आपका नया आर्टिकल जल्दी से जल्दी इंडेक्स होता है और आपके साइट का बाउंस रेट भी मेंटेन बना रहता है।

ये भी पढ़ें
नया Blog पर Traffic कैसे लाएं – कारगर एवं वैध तरीका
Blog Ko Google Analytics Se Connect Kaise Kare

Keywords Research Tool का उपयोग करें

पोस्ट लिखने से पहले ही हमें कीवर्ड रिसर्च कर लेना चाहिए क्योंकि कीवर्ड के ऊपर ही हमारे पोस्ट का SEO पूरी तरह से निर्भर करता है।

वैसे तो keywords research के लिए बहुत सारे टूल है कुछ फ्री है कुछ पेड है अगर आप अभी नए ब्लॉगर हैं तो आप फ्री टूल का यूज भी कर सकते हैं।

Google के द्वारा सजेस्ट किए गए Keywords का उपयोग करें

जब आप गूगल में कोई कीवर्ड टाइप करते हैं तो उससे संबंधित बहुत सारे कीवर्ड नीचे आपको गूगल सजेस्ट करता है उदाहरण के लिए आप नीचे दिखाए गए चित्र को देख सकते हैं। (नीचे चित्र देखें)

google search
google search

आप इन सभी कीवर्ड को अपने पोस्ट में इस्तेमाल कर सकते हैं और इस तरीके से हमें गूगल के द्वारा फ्री में कीवर्ड रिसर्च करने का विकल्प मिल जाता है।

जब आप गूगल में किसी कीवर्ड को टाइप करके सर्च करते हैं और बिल्कुल नीचे के तरफ जाते हैं तो उस सर्च से संबंधित और भी उसी कीवर्ड से मिलता जुलता दूसरा सर्चेज किवर्ड दिखाई देते हैं आप उन सभी को कॉपी कर सकते हैं ये आपके पोस्ट में काम आएंगे। (नीचे चित्र देखें)

related search
related search
Google Keyword Planner Tool का उपयोग करें

Google Keyword Planner Tool गूगल ने खास करके गूगल एड पर विज्ञापन चलाने के लिए बनाया है लेकिन आप अपने पोस्ट के लिए कीवर्ड रिसर्च करने के लिए कर सकते हैं।

Google Keyword Planner Tool में आपके कीवर्ड का search volume, competition, CPC इत्यादि सभी मैट्रिक देखने को मिल जाएगा।

आप कीवर्ड रिसर्च के लिए AHRF या उबरसजेस्ट कीवर्ड रिसर्च टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं वैसे तो ये पेड है लेकिन फ्री में भी आप इनके लिमिटेड सर्विस का इस्तेमाल कर सकते हैं। तो अब website seo kaise kare के इस पोस्ट में पोस्ट का लेंथ या साइज के बारे में समझेंगे।

ये भी पढ़ें
भारत में Best Hindi Blogs List – 25 Top हिंदी ब्लॉगर्स के लिस्ट
Bluehost से Web Hosting कैसे खरीदें

Post के Size पर ध्यान दें

तीन सौ शब्दों से नीचे के पोस्ट को गूगल अधूरी जानकारी मानता है इसलिए हमें अपना पोस्ट में कम से कम तीन सौ शब्द से ऊपर ही डालना चाहिए।

आज के समय में कंपटीशन इतना ज्यादा है कि आपको अपना एक पोस्ट कम से कम पन्द्रह सौ या दो हजार शब्दों में लिखना होगा तभी आप अपने प्रतियोगी से आगे निकल पाएंगे।

पोस्ट में ज्यादा शब्द डालने का मतलब ये नहीं है कि आप कुछ भी अनाप-शनाप लिखते जाएं आपको यूनिक जानकारी देना है ताकि लोग उसे पढे, आपके पेज पर रुके और एक पेज से दूसरे पेज पर जाएं।

आपके पोस्ट में जितना ज्यादा से ज्यादा वर्ड होंगे उतने आप उसमें ज्यादा से ज्यादा कीवर्ड का इस्तेमाल कर पाएंगे और ये सजेशन seo plugin जैसे yoast seo या rank math plugin आपको देंगे।

अगर आप अपना ब्लॉग हिंदी भाषा में लिखते हैं तो यहां पर आपके लिए एक गाइड है Hindi Blog Kaise Likhe इस पोस्ट में हिंदी में seo-friendly पोस्ट लिखना बताया गया है।

Image का SEO Optimisation

on page seo में हमें अपने द्वारा डिजाइन किए गए अपने ब्लॉग पोस्ट के फीचर इमेज को भी ऑप्टिमाइज करना होता है।

feature image optimise करने से मतलब है कि हमें इसका साइज को कमप्रेस करके कम से कम रखना चाहिए जिससे पेज की loading speed पर इसका कोई बुरा प्रभाव ना पड़े।

कंप्रेस करने के बाद इमेज को रिनेम करके अपने ब्लॉग पोस्ट के मेन कीवर्ड को उसका नाम रखना चाहिए और पोस्ट में इमेज अपलोड करते समय इमेज का ALT tag में भी मेन कीवर्ड डालना चाहिए।

ऐसा करने से हमारे blog post के इमेज भी search engine में rank करने लगता है और उसके द्वारा भी हमें अच्छा खासा ट्रैफिक मिलता है।

अब यहां तक हमने on page seo के बारे में जान लिया अब हम आगे जानेंगे of page seo के बारे में, और ये आर्टिकल लिख के पब्लिश करने के बाद हमें करना होता है।

OF Page SEO IN Hindi (what is off page seo)

जब हम अपने post को अपने blog पर publish कर देते हैं उसके बाद उस पोस्ट का of page seo करना शुरू करते हैं अफ पेज एसइओ करने का बहुत सारा अलग-अलग तरीका होता है हम उन सभी तरीकों के बारे में जानेंगे।

Google Search Console मे Post को Submit करना

blog post को पब्लिश करने के बाद सबसे पहले हमारा काम होता है उस पोस्ट के यूआरएल को गूगल सर्च काउंसिल में इंडेक्स होने के लिए सबमिट करना।

अगर आपको ये नहीं पता है कि अपने नए ब्लॉग पोस्ट को जल्दी से जल्दी इंडेक्स कैसे कराएं तो यहां एक गाइड है। Blog Post को Google में fast index कैसे करें

Blog को Bing Webmaster Tools मे Submit करना

जिस तरीके से अपने अपने ब्लॉग या ब्लॉग पोस्ट को गूगल सर्च काउंसिल में सबमिट किया था वैसे ही आपको Bing Webmaster Tools में भी सबमिट करना होगा।

google search engine के ही तरह bing search engine भी बहुत सारे लोग इस्तेमाल करते हैं आपके साइट bing search engine में रैंक करेगा तो वहां से भी अच्छा-खासा ट्रैफिक मिलेगा।

जिस तरह से अपने गूगल सर्च काउंसिल में अकाउंट बनाकर अपने ब्लॉग को अप्रूवल कराया था वैसे ही बिंग सर्च इंजन में भी एक नया अकाउंट बनाइये और अपने ब्लॉग को सबमिट करके अप्रूवल कराइए।

Blog Post को social platform पे share करना

जब आप अपने ब्लॉग पोस्ट को गूगल सर्च काउंसिल और बिंग सर्च इंजन में सबमिट कर देते हैं तो उसके बाद अगला काम होता है आपके जितने भी सोशल मीडिया अकाउंट है उन सभी पर शेयर करना जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Twitter, LinkedIn, Tumblr इत्यादि।

बड़े-बड़े साइट्स जैसे फेसबुक, टि्वटर, लिंकडइन इत्यादि को गूगल का crawler हमेशा crawl करते रहता है और जब आपके उस पोस्ट का लिंक वहां पर पाया जाता है तो उस लिंक के जरिए क्रॉलर आपके पोस्ट पर भी आता है और इस तरीके से आपका पोस्ट जल्दी से जल्दी सर्च इंजन में इंडेक्स हो जाता है।

आपने अपना जिस भी नाम से ब्लॉग या वेबसाइट बनाया है उसी नाम से फेसबुक पर इंस्टाग्राम पर पेज बनाएं, और उस पर पेज में अपने इस वेबसाइट का url देवें फिर अगला काम अपने इस पेज पर फॉलोअर्स बढ़ाना होता है और फिर जब भी आप नया पोस्ट लिखें तो उसको उस पेज पर शेयर किया करें।

अब हमें website seo kaise kare के इस सीरीज में बैकलिंक्स के ऊपर खास करके ध्यान देना है क्योंकि ये हमारे pages को गूगल में टॉप में लाने में काफी हद तक मदद करते हैं।

High Authority Site पर Backlink बनाना

हमें अपने blog post को social accounts पर शेयर करने के बाद अगला काम होता है उस पोस्ट के लिए High Authority Site से high quality backlinks बनाना।

अगर आपको नहीं पता है कि बैकलिंक्स क्या है हाई अथॉरिटी साइट से क्वालिटी बैकलिंक्स कैसे बनाएं तो यहां एक गाइड है। High Quality Backlink कैसे बनाएं

backlinks आपके साइट की अथॉरिटी को बढ़ाता है अगर आपको हाई अथॉरिटी साइट से बैकलिंक्स मिला होता है तो गूगल को ये संदेश जाता है कि उस बड़े वेबसाइट ने हमारे इस वेबसाइट को सपोर्ट कर रहा है।

हमारे ब्लॉग पोस्ट में क्वालिटी कंटेंट लिखने के साथ ही बैकलिंक्स का बनाना भी उतना ही जरूरी होता है क्योंकि इससे हमारे पेजेस सर्च इंजन में टॉप में आते हैं।

लेकिन आप Backlinks उन्हीं pages के लिए बनाए जिस पर आपको विश्वास है कि आपने जो लिखा है उस में दम है उसे लोग पढ़ेंगे और अपना इंगेजमेंट भी देंगे।

क्योंकि अगर आपके पोस्ट में दम नहीं है और बैंकलिंक के बल पर वो टॉप में आ भी जाता है और उस पेज पर यूजर रुक नहीं रहे हैं तुरंत ओपन कर रहे हैं और तुरंत बंद कर दे रहे हैं तो इससे गूगल के बाॅट ये समझ जाएंगे कि आपने कुछ अच्छा नहीं लिखा है और बैकलिंक्स होते हुए भी उस पेज को नीचे कर दिया जाएगा।

WordPress Users SEO Plugin का इस्तेमाल करें

अगर आपका ब्लॉग ब्लॉगर पर है तो आपको इसके लिए साइटमैप बना कर सबमिट करना होता है लेकिन अगर आपका ब्लॉग वर्डप्रेस पर है तो इसके लिए आपको साइटमैप बनाने की जरूरत नहीं होती है कुछ SEO Plugin है जो आपके साइट का sitemap खुद ही क्रिएट कर देते हैं।

आप अपने वर्डप्रेस ब्लॉग के लिए yoast SEO plugin या Rank Math SEO Plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन इसका सेटअप हमें सही तरीके से करना होता है।

इन प्लगइन का इस्तेमाल करने से फायदा ये होता है कि जब आप अपना ब्लॉग पोस्ट लिख रहे होते हैं तो ये आपको सजेस्ट करते हैं कि टाइटल में कितना वर्ल्ड होने चाहिए एवं कीवर्ड कितना डालना है।

ये plugins आपके साइट का साइटमैप भी create करते हैं और आपके पोस्ट को सर्च इंजन में रैंक कराने में भी मदद करते हैं।

और अंत में

आज के इस कंपटीशन भरी दुनिया में blogging के क्षेत्र में आगे निकलने के लिए शुरुआती के छः महीने तक हमें जी तोड़ मेहनत करना पड़ता है तभी जाकर हम आगे सफल हो पाते हैं।

लेकिन जब आप ब्लॉगिंग में सफल हो जाते हैं तो ढेर सारे पैसे के साथ ही अपना नाम भी दुनिया में रोशन कर देते हैं।

तो हमने यहां पर इस पोस्ट में सीखा Website SEO Kaise Kare हमें उम्मीद है यहां पर बताए गए बातों को फॉलो करके आप अपना ब्लॉगिंग का शुरुआत अच्छा से कर पाएंगे।

अगर आपके पास इस पोस्ट Website SEO Kaise Kare से संबंधित किसी भी तरह के सवाल या सुझाव है या फिर आप Advance SEO Tutorial in Hindi के बारे में और कुछ जानना चाहते हैं तो बिना देर किए नीचे कमेंट जरूर करें। धन्यवाद

8 thoughts on “Website SEO कैसे करे Advance SEO Tips in hindi”

  1. आपके द्वारा बताया गया एक एक बातों को मैंने पढी बहुत महत्वपूर्ण पोस्ट सर

    Reply
    • ऐडसेंस का ऐड festival wishing script website में लगा तो सकते हैं और बहुत से ऐसे साइट पर मैं ऐडसेंस का ऐड देखा भी हूं लेकिन क्योंकि इस तरह के वेबसाइट पर शेयरिंग का ट्रैफिक अचानक से भारी मात्रा में आता है और ऐसे में एडसेंस डीजेबल होने का खतरा होता है।
      और क्योंकि मैं फेस्टिवल विशिंग वेबसाइट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं रखता हूं इसलिए ज्यादा कुछ नहीं बता सकता आप इस बारे में थोड़ा रिसर्च जरूर कर लें।

      Reply

Leave a Comment